प्रो. रश्मि दीवान राष्ट्रीय शैक्षिक योजना एवं प्रशासन संस्थान, नई दिल्ली, में स्थित राष्ट्रीय विद्यालय नेतृत्व केन्द्र में प्रोफेसर एवं विभागाध्यक्ष हैं। गत ३० वर्षों से इनका शोध कार्य मुख्यतः विद्यालयी शिक्षा व विद्यालय नेतृत्व एवं प्रबंधन के महत्वपूर्ण मुद्दों पर केन्द्रित रहा है। अपने अनुभव सिद्ध शोधों के सुदृढ़ आधार पर इन्होंने वर्तमान एवं भावी शैक्षणिक प्रशासकों एवं विद्यालय नेतृत्वकर्ताओं के क्षमता विकास में व्यापक योगदान दिया है। विभिन्न राष्ट्रीय एवं अन्तर्राष्ट्रीय पत्रिकाओं में प्रकाशित इनके शोध कार्य मुख्यतः विद्यालय नेतृत्व एवं प्रबंधन के क्षेत्र से सम्बन्ध रखते हैं | अन्य विषय जिन पर इन्होंने विस्तृत रूप से लिखा हैए वे हैं रू सक्रिय/गतिशील विद्यालय नेतृत्व, विद्यालय से संबंधित सुधार हेतु नेतृत्व रणनीतियां, विद्यालय परिवर्तन हेतु प्रधानाचार्य उत्प्रेरक के रूप में, विद्यालय प्रमुखों में नेतृत्व व्यवहार एवं मूल्य, बाल शिक्षा अधिकार अधिनियिम २००९ के संदर्भ में विद्यालय नेतृत्व रू बदलाव एवं चुनौतियाँ, नेतृत्व क्षेत्र में महिलाओं के लिए नीति-निर्देश, छोटे बहुस्तरीय विद्यालयों का प्रबंधन एवं नेतृत्व, विद्यालय आधारित प्रबंधन एवं निरीक्षण, सामुदायिक भागीदारी एवं प्रारम्भिक शिक्षा का सशक्तीकरण एवं अधिगम संस्थाओं के रूप में विद्यालयों का उन्नयन, इत्यादि |

डॉ. सुनीता चुघ ने जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय से अन्तर्राष्ट्रीय राजनीति में एम.ए. एवं एम.फिल. किया है एवं जामिया मिलिया विश्वविद्यालय से शिक्षाशास्त्र में पी.एच.डी. प्राप्त की है। वर्तमान में वह राष्ट्रीय विद्यालय नेतृत्व केंद्र, नीपा में सह-प्रोफेसर के पद पर कार्य कर रही हैं। इनके शोध के क्षेत्र में शहरी वंचित बच्चों की शिक्षा, समावेशी शिक्षा, आर.टी.आईण् एवं इसका क्रियान्वयन और विद्यालय नेतृत्व सम्मिलित हैं। इन्होंने अनेकों प्रतिष्ठित पत्रिकाओं में रचनात्मक लेखों द्वारा योगदान दिया है एवं शहरी बस्तियों में रहने वाले बच्चों के शैक्षिक स्तर, मुद्दों एवं समस्याओं पर एक पुस्तक भी लिखी है। इन्होंने शहरी उपेक्षित बच्चों तक पहुंच, सहयोग एवं अधिगम की उपलब्धि के मुद्दों पर शोध किया है तथा जेरूसलेम में समावेशी शिक्षा एवं नोटिंघम, यू.के में विद्यालय नेतृत्व कार्यक्रम में भाग लिया है। ये दिल्ली, पंजाब, मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़, पश्चिम बंगाल और मिज़ोरम में सक्रिय रूप से विद्यालय नेतृत्व विकास कार्यक्रम का नेतृत्व कर रही हैं।
ईमेल आई डी: sunitachugh[at]niepa[dot]ac[dot]in

डॉ. कश्यपी अवस्थी राष्ट्रीय विद्यालय नेतृत्व केन्द्र, नीपा में सहायक प्रोफेसर हैं। इनका वर्तमान केंद्र बिंदु विद्यालय नेतृत्व विकास है जिसमें ये एन.सी.एस.एल दल के साथ हस्त-पुस्तिका एवं पाठ्यचर्या के विकास में सक्रिय रूप से जुड़ी हुई हैं। ये शिक्षण,शोध, एम.फिल. शोधार्थियों एवं अभ्यासकर्ताओं का मार्गदर्शन करने में भी संलग्न हैं। इससे पूर्व, इन्होंने शिक्षा विभाग, एम.एस. विश्वविद्यालयए बड़ौदा, गुजरात में व्याख्याता के रूप में भी अपनी सेवाऐं दी हैं जहाँ से इन्होंने पी.एच.डी. भी प्राप्त की | इन्होंने प्रारम्भिक शिक्षा में सामुदायिक सहभागिता तथा अध्यापकों की क्षमता विकास के क्षेत्र में भी अपना योगदान दिया है। वर्तमान में ये गुजरात, हिमाचल प्रदेश, राजस्थान, अरूणाचल प्रदेशए नागालैण्ड, त्रिपुरा, अंडमान एवं निकोबोर द्वीप समूह इत्यादि राज्यों के संसाधन दल एवं विद्यालय प्रमुखों की क्षमता विकास के कार्य में संलग्न हैं जो इनके वर्तमान प्रदत्त कार्य का हिस्सा भी है।
ईमेल आई डी: kashyapiawasthi[at]gmail[dot]com

डॉ. सुबिथा जी.वी. मेनन ने रीजनल इन्स्टीट्यूट ऑफ एजुकेशन, मैसूर से पी.एच.डी. प्राप्त की है। इन्होंने शैक्षणिक मनोविज्ञान के क्षेत्र में शिक्षण रूपरेखा बनाने एवं मॉड्यूल विकास में उल्लेखनीय कार्य किया है। इन्होंने ई-अधिगम के क्षेत्र में कम्प्यूटर आधारित प्रशिक्षण मॉड्यूल विकसित करने हेतु निर्देशात्मक डिज़ाइनर के रूप में भी कार्य किया है। डॉ. सुबिथा ने आई.आई.टी. मद्रास में भी कई परियोजनाओं पर कार्य किया है जो तमिलनाडु के सरकारी विद्यालयों में एस.एस.ए आँकलन एवं ए.एल.एम क्रियान्वयन के अनुश्रवण से संबंधित रही हैं। वर्तमान में ये एन.सी.एस.एल., नीपा में सहायक प्रोफेसर के रूप में कार्य कर रही हैं एवं आसामए कर्नाटक, तेलंगाना, उड़ीसा एवं पुडुचेरी राज्यों में एन.सी.एस.एल. के विद्यालय नेतृत्व कार्यक्रमों की समन्वयक हैं।

ईमेल आई डी: subithagvmenon[at]gmail[dot]com

डॉ. एन.मैथिली राष्ट्रीय विद्यालय नेतृत्व केंद्र, नीपा में सहायक प्रोफेसर के रूप में कार्य कर रही हैं। विद्यालय नेतृत्व एवं प्रबंधन पर शैक्षिक कार्यक्रमों की रूपरेखा एवं योजना बनाना, भारतीय राज्यों में विद्यालय नेतृत्व एवं प्रबंधन पर क्षमता विकास कार्यक्रमों का क्रियान्वयन करना एवं विद्यालय नेतृत्व में महिलाओं की भूमिका पर शोध इनकी रूचि के क्षेत्र हैं। इन्होंने शिक्षा की गुणवत्ता पर भी कार्य किया है जो विशेषत: कर्नाटक के सरकारी ग्रामीण विद्यालयों के सन्दर्भ में है। इन्होंने १२वीं पंचवर्षीय योजना के तहत अध्यापक-शिक्षा की पुनर्संरचना के संदर्भ में भी शोध किया है। इससे पूर्व ये, 'इन्स्टीट्यूट फॉर सोशल एडं इकॉनोमिक चेन्ज, बैंगलौर', 'सेंटर फॉर मल्टी डिसिप्लीनरी डेवलपमेंट रिसर्च, धारवाड़', 'अज़ीम प्रेमजी फाउन्डेशन (बैंगलौर) ,टी.आई.एस.एस.(मुंबई) से जुड़ी हुई थीं। संदर्भित पत्रिकाओं में, इनके कई शोध भी प्रकाशित हुए हैं। यह आन्ध्र प्रदेश, केरल, मेघालय, मणिपुर और सिक्किम में विद्यालय नेतृत्व विकास कार्यक्रम का नेतृत्व कर रही हैं।
ईमेल आई डी: sastry.mythili18[at]gmail[dot]com

डॉ. चारू स्मिता मलिक वर्तमान में राष्ट्रीय विद्यालय नेतृत्व केंद्र, नीपा में वरिष्ठ सलाहकार के रूप में कार्य कर रही हैं। इन्होंने, राष्ट्रीय शैक्षिक योजना एवं प्रशासन संस्थान, नई दिल्ली से 'शैक्षिक नीति, योजना एवं प्रशासन' में पी.एच.डी. प्राप्त की है। इनका शोध, उत्तर प्रदेश में माध्यमिक स्तर पर पहुंच एवं भागीदारी में समता के मुद्दों पर आधारित था। इन्होंने जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय से समाजशास्त्र में स्नातकोत्तर किया है। ये विद्यालय नेतृत्व कार्यक्रम की रूपरेखा तैयार करने एवं उसे विकसित करने में दल सहित केन्द्र के साथ कार्य कर रही हैं एवं विद्यालय नेतृत्व एवं प्रबंधन में सर्टिफिकेट एवं परा स्नातक डिप्लोमा कार्यक्रमों के शिक्षण में भी संलग्न हैं। ये उत्तर प्रदेश, हरियाणा, बिहार एवं महाराष्ट्र में विद्यालय नेतृत्व कार्यक्रम के क्रियान्वयन में अधिक गहनता से संलग्न हैं। शैक्षणिक योजना एवं विद्यालय नेतृत्व इनकी रूचि के क्षेत्र हैं।
ईमेल आई डी: charunuepa[at]gmail[dot]com .


श्री सूरज कुमार
सॉफ्टवेयर डेवेलपर

डॉ. तनुश्री महालिक

सुश्री मोनिका बजाज
सुश्री दिव्या ज्योति
सुश्री गुरमीत कौर
प्रशासनिक सलाहकार

सुश्री अल्का नेगी

श्री राम पुकार सिंह